Responsive Ad Slot

न्यूज़

News

कोरोनावायरस वैक्सीन की असफलता को लेकर WHO ने दुनिया को दे डाली भयानक चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोनावायरस वैक्सीन की असफलता को लेकर दुनिया को आने वाले समय को बेहद खतरनाक बताते हुए चेतावनी जारी की है।

मंगलवार, 14 जुलाई 2020

/ by News Trends
इस समय पूरी दुनिया में कोरोनावायरस के भय से अफरा तफरी मची हुई है ,क्योंकि इस बीमारी ने हर एक देश की अर्थव्यवस्था से साथ - साथ हर व्यक्ति के दिल में भय पैदा कर दिया है। WHO(World Health Organization) का कहना हे की अभी समय रहते कोई ठोस कदम नहीं उठाया तो इस महामारी से संसार को और बड़ा झटका लग जायगा। इस समय एक छोटी सी लापरवाही भी दुनिया को झिझोड़ सकती है। हर कोई इस मुश्किल समय में अपने जान बचाना चाहता है। आज के समय में हर एक देश इस महामारी से निपटने के लिए गलत दिशा में जा रहे है।



नियमो का पालन करने के बजाए इस समय हर एक देश और उस देश के नागरिक अपने अनुसार नियम निर्धारित करके चल रहे है जो कि कठिनाई भरा साबित हो सकता है। उत्तरी और दक्षिण अमेरिका अभी इस महामारी से जूझ रही है।  कारणवश कोरोनावायरस के मरीजो  की गिनती बढ़ते जा रही है। इस समय अमरीका कोरोना की सबसे बड़ी  मार झेल रहा है। यहाँ पर एक लाख 38 हजार से ज्यादा लोगो की जान जा चुकी है और ३३ लाख लोग अभी भी सक्रमित है।

WHO ने कोरोनावायरस की वैक्सीन को लेकर चेताया


WHO का कहना हे कि हर तरफ दुनिया में हर एक डॉक्टर इस बीमारी से लड़ने कि उपचार ढूंढ रहें है लेकिन अभी तक कोई कामयाबी हाथ नही आई है। इस तरह से लोगो का भरोसा भी कम हो रहा है। वैज्ञानिको का मानना है कि कोरोना अभी भी हर एक देश का बहुत बड़ा दुश्मन है। देश कि सरकारे इसे चुनौती कि बजाए हल्के में ले रही है जिसका अंजाम और भी बदतर हो सकता है। उपचार न होने की वजह ये बेहद खतरनाक है।

इस महामारी का इलाज सिर्फ साफ - सफाई और एक दूसरे से सामाजिक दूरी है।  नियमित समय पर हाथ धोना और मुँह को ढक कर रखना ही  इस समय एक मात्र उपाय है। जान है तो जहां है क्योंकि यह बीमारी एक महामारी है जो दुनिया को तहस - नहस कर सकती है। यह समय गंभीरता से कुछ नियमो को लेने की जरूरत है। थोड़ी सी ढील भी नुकसानदायक बन सकती है।
World health organization -  NewsTrendsHindi

इस मुश्किल समय में चीजे नजर अंदाज़ करना कोरोनावायरस को बढ़ावा देना है। सरकार की ढील और लोगो की लापरवाही सिर्फ विनाश का कारण बन सकती है इससे ज्यादा कुछ नही। लॉक डाउन खोलना भी खतरे का ही संकेत बना हुआ है क्योंकि लोग छोटे से  छोटी बातें नजर अंदाज़ कर रहें है। WHO के निदेशक का कहना है कि जिस तरह से सरकार ने ढील दे रखी है इससे सिर्फ ये बीमारी और विनाशकारी रूप ले सकती है।

अमेरिका में अब तक कोरोनावायरस से एक लाख 38 हजार लोगो कि जाने जा चुकी है। ओर यह गिनती अभी भी थमी नही रही है जबकि और बढ़ने कि सम्भावना है। बड़े बड़े विकसित देश इस बीमारी से लड़ नही पा रहें है और बार - बार वैक्सीन बनाने में विफल होते दिखाई दे रहें है। जान मॉल कि हानि कि साथ ही अर्थव्यवस्था पर भी गहरा प्रभाव पड़ा है। लॉक डाउन को मजाक समझने कि बजाए इस नियम का पालन करना ही समझदारी है।  

स्पष्ट और मजबूत फैसले ही देश को थोड़ा संभाल सकते है। गंभीरता से नियमो का पालन करने में ही समझदारी है वरना कोई भी देश इस महामारी से नही लड़ सकता है। इस समय पर सख्ती अपनाना ही बेहतर साबित हो सकता है। देश को कोरोना मुक्त बनाने के लिए सरकार को कानून का पालन और नागरिको को क़ानून को सख्ती से लेना पड़ेगा।

वैक्सीन या इम्युनिटी 


अभी वैक्सीन बनने में समय लग सकता है और वैज्ञानिको का कहना है तब तक हमे नियमो के साथ ही जीना होगा , समय मुश्किल जरूर है लेकिन हम सब मिलकर इस बीमारी के लड़े तो देश जल्द ही कोरोना मुक्त हो जाएगा।  परन्तु तब तक हमे नियमो का पालन हर हल में करना होगा। वैज्ञानिको ने अभी तक 98 लोगो पर अध्ययन किया है जिसमे एंटी बॉडीज में कोरोना कैसे सामना करता है और कब तक टिकता है यह स्पष्ट नही है , जड़ तक पहुंचने में समय लग सकता है तब तक इलाज सिर्फ नियमो का पालन ही करना है।

कोई टिप्पणी नहीं

टिप्पणी पोस्ट करें

Don't Miss
©News Trends all rights reserved
made with by NewsTrends